Home Uncategorized रेलवे का बड़ा फैसला, ट्रेन के एसी कोच में अब नहीं मिलेगा कंबल, कारण जानने के लिए… पढ़ें।

रेलवे का बड़ा फैसला, ट्रेन के एसी कोच में अब नहीं मिलेगा कंबल, कारण जानने के लिए… पढ़ें।

8 second read
0
0
486

भारतीय रेल ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए बड़ा फैसला लिया है। कोच अटेंडेंट अब बोगी में यात्रियों को बेडरोल के साथ कंबल नहीं देगा। इसकी शुरुआत आज से ही कर दी गई है। शनिवार को खुलने वाली राजधानी एक्‍सप्रेस समेत रेलवे की तमाम प्रीमियम ट्रेनों में यात्रियों को कंबल नहीं दिया गया है। कोरोना वायरस के प्रति अतिरिक्‍त सतर्कता बरतने और जागरुकता की दिशा में अब रेलवे एसी कोचों का तापमान 25 डिग्री सेल्सियस फिक्‍स रखेगा, ताकि यात्रियों को बोगी में कंबल की आवश्यकता न पड़े।

इस दौरान कोच में तापमान अधिक होने से कोरोना वायरस के लिए प्रतिकूल तापमान बना रहेगा। हालांकि, शुरुआती चरण में गिने-चुने कंबल कोच अटेंडेंट रखेगा। अति आवश्यक या विशेष परिस्थिति में ही यात्रियों को कंबल दिया जाएगा। लेकिन यह भी व्यवस्था चार-पांच दिनों के लिए होगी, जिसे आगे बंद कर दिया जाएगा। रांची रेल मंडल ने इंडियन रेलवे से इस दिशा में निर्देश मिलते ही अपनी कार्रवाई शुरू कर दी है। रेलवे अधिकारी ने बताया कि शनिवार से राजधानी एक्‍सप्रेस समेत सभी ट्रेनों में कंबल की सुविधा बंद कर दी गई है।

एसी ट्रेनों से पर्दा हटाने का काम शुरू

दूसरी तरफ ट्रेनों के सैकेंड एसी के बोगी से पर्दा खोलने की तैयारी शुरू कर दी गई है। कुछ दिनों में सभी बोगी से परदों को हटा दिया जाएगा। सैनेटाइजर से मेटल की वस्तु और हैंडल को साफ किया जा रहा है। सभी श्रेणी के बोगियों के शौचालय में हैंड वॉश के लिए लिक्विड रखा जा रहा है। 

 रेलवे ने 50 बेड का क्वॉरेंटाइन सेंटर व आइसोलेश वार्ड बनाया

कोरोना वायरस को लेकर रेलवे ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। भले ही झारखंड में कोरोना का एक भी मामला सामने नहीं आया है। लेकिन रांची रेल मंडल ने हटिया स्थित मंडल अस्पताल में इसके लिए खास तैयारी कर रखी है। फिलहाल इसे लेकर 50 बेड का क्वॉरेनटाइन बेड और आठ बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। 50 बेड के इस सेंटर में संदिग्ध मरीजों को रखा जाएगा और आठ बेड में चार बेड पुरूषों के लिए चार महिलाओं के लिए होगा। शुरु आने वाले मरीजों को क्वॉरेनटाइन सेंटर में जांच होगी। रिपोर्ट कंफर्म होने पर ही उसे आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट किया जाएगा।

हेल्पलाइन नंबर किया गया है जारी

स्टेशन पर कार्यरत स्टेशन मास्टर के लिए एक हेल्पलाईन नंबर भी जारी किया गया है। इसके अतिरिक्त एक हेल्पलाईन नंबर जिला प्रशासन की ओर से जारी किया गया है। दो हेल्पलाइन नंबर की मदद से स्टेशन मास्टर तत्काल किसी भी तरह की समस्या या मरीज के मिलने पर सूचना या जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

यात्रियों को किया जा रहा है जागरूक

वहीं, रेलवे द्वारा स्टेशनों पर यात्रियों को जागरूक करने संबंधित प्रचार-प्रसार भी किया जा रहा है। उन्हें पंपलेट भी दिया जा रहा है। साथ ही उन्हें कोरोना से बचाव के संबंध में जानकारी दी जा रही है। स्टेशन पर हजारों हजार की संख्या में यात्री आते और जाते हैं। उन्हें किसी तरह का संक्रमण न हो इसके लिए नियमित तौर पर स्टेशन की साफ-सफाई का निर्देश दिया गया है।

Load More By Mridul Pandey
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

जिला खनिज अधिकारी सतना दीपमाला तिवारी को राज्य सूचना आयुक्त की नोटिश से मिली राहत

Share Tweet Send सतना । उपसंचालक खनिज एवं जिला खनिज अधिकारी सतना को राज्य सूचना आयोग से बड…