Home मध्यप्रदेश घोड़ी पे दुल्हन सवार, कोटा रवाना…

घोड़ी पे दुल्हन सवार, कोटा रवाना…

14 second read
Comments Off on घोड़ी पे दुल्हन सवार, कोटा रवाना…
0
910

दूल्हे को घोड़ी पर चढ़कर दुल्हन के घर बरात के साथ जाते आपने अक्सर देखा होगा, लेकिन किसी दुल्हन को घोड़ी पर चढ़कर दूल्हे के घर बारात में जाते शायद ही देखा होगा लेकिन यह सच है, सतना शहर के बलेचा परिवार की एकलौती बेटी घोड़ी पर चढ़कर दूल्हे के घर बारात लेकर रवाना हुई है, बड़े धूमधाम से बारात सतना से कोटा के लिए दूल्हे के घर रवाना हुई, परिवार ने घोड़ी पर चढ़ने की बेटी की ना सिर्फ ख्वाहिश पूरी की है बल्कि समाज को यह संदेश भी दिया है कि बेटियां किसी पर बोझ नहीं, बेटा और बेटी में कोई अंतर भी नहीं, जितना अधिकार समाज मे बेटों को है उतना ही अधिकार बेटियों को भी दिया जाए।

सतना के कृष्ण नगर इलाके में रहने वाले नरेश बलेजा की इकलौती बेटी दीपा की शादी का दृश्य जिसने भी देखा वह देखता ही आएगा, नजारा ही कुछ ऐसा था की दुल्हन घोड़ी पर सवार थी और बारात दूल्हे के घर रवाना हो रही थी, दीपा की शादी कोटा में रहने वाले एक परिवार में तय हुई, बेटी की ख्वाहिस थी कि वह बेटों की तरह घोड़ी पर बैठ कर अपने दूल्हे के घर जाए, इस ख्वाहिश को परिवार ने पूरा किया है, यही नहीं परिवार बेटा और बेटी में कोई फर्क नहीं समझता अपनी बेटी की शादी वह एक बेटे की तरह धूमधाम से करना चाहते थे, लिहाजा बड़े धूमधाम के साथ बेटी की बारात निकाली गई, परिवार की माने तो कई सालों बाद उनके परिवार में एक बेटी हुई है। वे अपनी बेटी को बेटे से भी ज्यादा प्यार करती है। अक्सर समाज में बेटों को प्राथमिकता दी जाती है।लिहाजा वह अपनी बेटी की बारात निकाल कर समाज को यह मैसेज देना चाहती हैं की बेटियों का सम्मान करें क्योंकि बेटी है तो कल है।


आज भी हमारे समाज में कुछ कुरीतियां मौजूद जो बेटियों को बोझ समझती है। दीपा की शादी उनके लिए एक संदेश है जो बेटियों को बोझ समझते हैं। समाज के लिए यह सीख भी है कि बेटा और बेटी में कोई अंतर नहीं होता जितना अधिकार बेटे को है उतना ही अधिकार बेटी को समाज में देना चाहिए

Comments are closed.

Check Also

कड़ी सुरक्षा के बीच संघ प्रमुख मोहन भागवत महाराष्ट्र रवाना, पुलिस छावनी में तब्दील रहा रेलवे स्टेशन,

Author Recent Posts Mridul pandey Latest posts by Mridul pandey (see all) नही रहे जुगुल कक…