Home मध्यप्रदेश भोपाल मुख्यमंत्री शिवराज की अधिकारियों को दो टूक- नशे का कारोबार किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं

मुख्यमंत्री शिवराज की अधिकारियों को दो टूक- नशे का कारोबार किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं

19 second read
Comments Off on मुख्यमंत्री शिवराज की अधिकारियों को दो टूक- नशे का कारोबार किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं
0
28

भोपाल,मध्यप्रदेश।। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम हाउस में महत्वपूर्ण बैठक ले रहे है, इस बैठक में प्रदेश सीएस, डीजीपी सहित सभी विभागो के प्रमुख और समस्त जिला प्रशासनिक अधिकारी बैठक से जुड़े है, बैठक में सबसे पहले मुख्यमंत्री शिवराज ने कानून व्यवस्था की समीक्षा की, उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि नशे के अवैध कारोबार को पूरी तरह से ध्वस्त करना है। स्कूल, कॉलेज आसपास, छोटी छोटी दुकानों पर ड्रग्स की शिकायत मिलती है। हमारी युवा पीढ़ी को खोखला करने का षड्यंत्र है। इससे हमें युवा पीढ़ी को बचाना है। इनफॉर्मर सक्रिय कीजिये। ये अभिशाप पूरी तरह से समाप्त करना है। इसकी मैं लगातार समीक्षा करूंगा।

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि इनको संरक्षण देने वाले कौन है, इनके तार कहाँ जुड़े हैं। जरूरत पड़ने पर इंटेलिजेंस का भी प्रयोग करें। ये अक्षम्य है। पहले चरण में अभियान चलाए। एक से ज्यादा राज्यों से भी तार जुड़े हो सकते हैं। दूसरे चरण में कार्रवाई के बाद भी किसी जिले में ड्रग्स का, अवैध शराब की बिकवाली होगी तो सहन नहीं किया जाएगा। आरोपी पकड़े जाने पर एसपी, थानेदार और ऊपर के अधिकारी जिम्मेदार होंगे उन पर एक्शन लेंगे। सीएम शिवराज ने हुक्का लाउंज कई तरह की ऐसी गतिविधियों कर रहे हैं जो बच्चों को गलत दिशा में ले जा रहे हैं। हुक्का लाउंज के नाम पर कुछ भी गड़बड़ हो, ये हम होने नहीं देंगे। कहीं हुक्का लाउंज न चले, तत्काल बंद हों। इनफॉर्मर को रिवॉर्ड देने कीस्कीम हम शुरू कर रहे हैं। उन्हें इनाम देंगे। शराब पीकर ग़दर करना, दूसरों की जिंदगी को असुरक्षित बनाना ये बर्दाश्त नहीं। मैं निर्देश फिर दे रहा हूँ कि दुराचारी किसी भी कीमत पर बख्से नहीं जाएंगे। तबाह करना है उन्हें। अपराधियों और दुराचारियों की कमर तोड़ने बुलडोजर भी लगातार चलता रहेगा।वही उन्होंने बैठक में मौजूद अधिकारियों को कहा कि प्रदेश में करप्शन के मामले में जीरो टोरलेंस की नीति अपनाएं।सूची बनाएं। जरूरत पड़ने पर EOW के छापे भी पड़ें।किसी को छूट नहीं है। स्वच्छ प्रशासन हमें देना है। साप्ताहिक रिपोर्ट बने। जो अच्छा काम कर रहा है उसकी पीठ भी थापथपाएँगे। लेकिन गड़बड़ करने वाले नहीं बख्से जाएंगे। नशे के अवैध कारोबार को पूरी तरह से ध्वस्त कर देना है, समाप्त कर देना है। कई जगह ड्रग्स के बारे में, मीडिया में भी खबरें आती है और बाकी जगह से भी जानकारी मिलती है। स्कूल, कॉलेज, उसके आसपास कुछ जगह से इंफॉर्मेशन मिलती हैं कि छोटी-छोटी दुकानें, जो अलग-अलग तरह की दूसरा सामान बेचती हैं। वहां ड्रग्स की शिकायतें मिलती हैं। हमारी युवा पीढ़ी को खोखला करने का षड्यंत्र है ये, और इस अभिशाप से हमारे बच्चों को हमको बचाना है इसलिए चाहे वो ड्रग्स का हो, चाहे वो अवैध शराब का हो, इनकी जड़ों पर प्रहार करना है। तत्काल कार्यवाई शुरू करनी है, इंफॉर्मेशन लीजिए, खुफिया इन फॉर्मर लगाइए, उनको सक्रिय कीजिए उनको, बीट की व्यवस्था, इतनी हो कि वहां से खबर दे दे कि यहां गड़बड़ी हो रही है। यह अभिशाप पूरी तरह से समाप्त करना है, युवा पीढ़ी को बर्बाद करने का काम हो रहा है इसे पूरी तरह से समाप्त करना है, इसकी मैं समीक्षा करूंगा, पहले चरण में कई जगह अभियान चलाएं, कई जगह नहीं चलाएं, कई जगह प्रभावी कार्यवाही हुई, अब जड़ों पर प्रहार करना है, इन को संरक्षण देने वाले लोग कौन-कौन हैं, इनके तार कहां से जुड़े हैं? जो बड़े माफिया होंगे, जो इस तरह की चीजें चला रहे हैं वो पूरी तरह से समाप्त कर दिए जाने चाहिए। उनके खिलाफ कठोरतम कार्यवाई होनी चाहिए, क्योंकि वो हमारे बच्चों का भविष्य बर्बाद कर रहे हैं, यह किसी भी कीमत पर अक्षम्य है। किसी भी कीमत पर क्षम्य नहीं है, पहले चरण में अभियान चलाओ। छोड़ो मत, संरक्षण देने वाला कोई भी हो छोड़ना नहीं है।  तार जहां जुड़े हो, वहां प्रहार करना है, एक से ज्यादा राज्यों में भी तार जुड़े हो सकते हैं, लेकिन दुकान से लेकर जहां तक तार जाए, स्कूल कॉलेज के आस-पास से लेकर आप इंफॉर्मेशन जुटाइये और कार्यवाई कीजिए।पीकर वाहन चलाना भी अपराध है। इन सबका पहले से प्रावधान है। इसका प्रभावी उपयोग करें। पीकर गदर करने का हक किसी को नहीं है। दूसरों की जिंदगी को असुरक्षित बनाना या दूसरे के सम्मान से खिलवाड़ करना; इसकी इजाजत किसी को नहीं है। इस पर प्रभावी कार्यवाही होनी चाहिए। आप सब को हमारा दृष्टिकोण पता है मां, बहन और बेटी के सम्मान के बारे में, मुझे कहने में फिर कोई संकोच नहीं है। मैं निर्देश दे रहा हूं, “दुराचारी किसी भी कीमत पर बक्से नहीं जाने चाहिए, बुलडोजर चलने चाहिए, क्योंकि ऐसे लोगों को जब तक तबाह नहीं करेंगे तब तक ये मानते नहीं है।” अगर कोई बहन- बेटी के साथ दुराचार करें तो तबाह करना, छोड़ना नहीं। इस लायक भी नहीं रहने देना कि दोबारा वह इस बारे में सोचें।

Load More Related Articles
Comments are closed.

Check Also

नरेंद्र सिंह तोमर के बेटे के खिलाफ पूर्व संघ प्रचारक हुए मुखर, ड्रग्स की लेन-देन का वीडियो हुआ था वायरल

Author Recent Posts admin Latest posts by admin (see all) राज्य सरकार की बड़ी तैयारी, जल्द…